एकादशी का व्रत होता है फलदायी, इस दिन यह करेंगे तो होंगे जीवन के सभी कष्ट दूर

शास्त्रों में एकादशी के व्रत बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। हिन्दु धर्म में एकादशी के दिन व्रत करने से व्रती को अपने जीवन में कई तरह से लाभ देखने को मिलते हैं। इस दिन जो लोग व्रत कर भगवान विष्णु की उपासना करते हैं वे सुख-समृध्दि पाते हैं। आइए जानते हैं एकादशी के नियमों के बारे में-



एकादशी के दिन यह न करें

-हिन्दू धर्म में एकादशी के दिन चावल, लहसुन, प्याज, मांस, मछली, मसूर की दाल आदि चीजों का सेवन अशुभ माना गया है।

-इस दिन पालक, गोभी, गाजर और शलजम आदि चीजों के सेवन से भी बचना चाहिए।

-एकादशी के दिन व्रतधारी को वृक्ष से पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए।

-इस दिन झाड़ू नहीं लगाना चाहिए क्योंकि सूक्ष्म जीवों की मृत्यु हो सकती है।

-एकादशी के दिन व्रत करने वाले को किसी से निंदा नहीं करनी चाहिए, साथ ही निंदा करने वाले, दुराचारी लोगों से दूर रहना चाहिए।

-इस दिन क्रोध करने से भी बचना चाहिए।

-एकादशी का व्रत करने वालों को अन्य व्यक्ति द्वारा दिया गया अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए।



एकादशी के दिन यह करेंगे तो मिलेगा फल

-एकादशी के दिन व्रत धारण करने वाले को प्रात: जल्दी उठकर आम, जामुन या नींबू के पत्ते चबाना चाहिए।

-इस दिन स्नान से पहले बारह बार कुल्ला कर स्नान करें फिर मंदिर में जाकर गीता का पाठ करें।

-एकादशी के दिन व्रती को भगवान विष्णु का जाप करना चाहिए। ओम नमो भगवते वासुदेवाय का द्वादश मंत्र का जाप करना चाहिए।

-इस दिन जो भी फलाहार ग्रहण करने से पहले भगवान को भोग लगाना चाहिए।

-एकादशी का दिन दान करने के लिए भी महत्वपूर्ण माना जाता है।