दिल की धड़कन को बिगाड़ सकती है पोटेशियम की कमी, डाइट का रखे विशेष ध्यान

शरीर के सभी अंगों को सुव्यवस्थित ढ़ंग से चलाने में सभी पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। इन सभी तत्वों में प्रोटीन, विटामिन्स, फाइबर, आयरन, पोटेशियम तथा सभी मिनरल्स शामिल होते हैं। शरीर में किसी भी तत्व की थोड़ी भी कमी होने पर शरीर का संतुलन भी बिगड़ जाता है, इस वजह से कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। दिल शरीर का सबसे जरूरी हिस्सा है, जिसका स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है लेकिन शरीर में यदि पोटेशियम की मात्रा कम हो जाए तो इसका दिल की धड़कनों पर बुरा असर पड़ता है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। आइए जानते हैं कि पोटेशियम शरीर के लिए क्यों आवश्यक है -



क्यों जरूरी है शरीर के लिए पोटेशियम

पोटेशियम शरीर के विकास के लिए बेहद आवश्यक होता है। यह शरीर की कोशकाओं और द्रव के बीच संतुलन बनाए रखने का काम करता है। कोशिकाओं की संपूर्ण गतिविधियों को ठीक तरह से चलाने में पोटेशियम मददगार होता है। इन कोशिकाओं में मौजूद एंजाइम्स को ठीक तरह से कार्य करने में मदद करता है।


शरीर में पोटेशियम की कमी का कारण

शरीर में पोटेशियम का लेवल एल्डोस्टेरॉन हार्मोन से कारण बदलता रहता है। इसके अतिरिक्त रक्त में जब सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है, तब भी पोटेशियम कम हो जाता है। इसके विपरीत जब रक्त में सोडियम की मात्रा कम हो जाती है तो पोटेशियम का लेवल बढ़ जाता है। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि पोटेशियम युक्त आहार कितना ले रहे हैं। यदि किसी व्यक्ति को किडनी संबंधित समस्या है, तब भी शरीर में पोटेशियम की कमी हो सकती है। ज्यादातर पोटेशियम की कमी अधिक शराब का सेवन करने वाले लोगों में हो सकती है। इसके अतिरिक्त जो लोग अधिकतर एंटीबायोटिक्स दवाओं का सेवन करते हैं, उनमें भी पोटेशियम की कमी हो सकती है।


पोटेशियम की कमी के लक्षण

जब शरीर में पोटेशियम की मात्रा कम हो जाती है तो मांसपोशियों में ऐंठन होने लगती है। साथ ही शरीर में कमजोरी महसूस होती है। दिल की धड़कन में अनियमितता महसूस होने लगती है। पोटेशियम की कमी की वजह से लो ब्लड प्रेशर भी हो सकता है। पोटेशियम की कमी से सांस लेने में भी तकलीफ भी हो सकती है। पोटेशियम की कमी के कारण नसें, पेट, लिवर, मांसपेशियां, दिल आदि सभी प्रभावित होते हैं।


दिल को कैसे प्रभावित करती है पोटशियम की कमी

दिल का पोटेशियम से सीधा संबंध है क्योंकि पोटेशियम दिल की मांसपेशियों को सुचारू रूप से चलाने मदद करता है, जिससे दिल की धड़कनें नियंत्रित रहती हैं। पोटेशियम के कम ज्यादा होने पर दिल की धड़कनें प्रभावित होती हैं इसलिए पोटेशियम की संतुलित मात्रा ही लेना चाहिए।


किन चीजों में होता है पर्याप्त पोटेशियम

पोटेशियम के संतुलित आहार के लिए अंजीर, संतरा, केला, आलूबुखारा आदि लिया जा सकता है। इसके साथ ही सब्जियों में आलू, पालक, खीरा, कद्दू, गाजर, ब्रोकली, मटर और शकरकंद आदि में भी भरपूर पोटेशियम होता है। वहीं सोया, दूध, दही और मशरूम में भी काफी मात्रा में पोटेशियम होता है, जिसका सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।

If you want to submit any news/article please write us at 

contact@amusingindia.com