Queen Didda Rani: कश्मीर की महारानी दिद्दा, जिसने सुशासन के लिए मरवा दिए खुद के बेटे

अपडेट किया गया: जन. 22

कश्मीर की आबादी अभी भले ही मुस्लिम बहुल हो, लेकिन एक समय ऐसा भी था, जब यहां हिंदू राजाओं की तूती बोलती थी। कश्मीर के इतिहास के बारे में ज्यादातर उल्लेख हमें कवि कल्हण की "राजतरंगिणी" ग्रंथ से ही मिलता है। कवि कल्हण ने इस ऐतिहासिक ग्रंथ की रचना कश्मीर के तत्कालीन राजा जयसिंह के कार्यकाल में की थी। कल्हण ने राजतरंगिणी ग्रंथ की रचना महाभारत शैली में की थी। इस ग्रंथ से ही कश्मीर की एक बहादुर रानी का भी जिक्र मिलता है, जिसने सुशासन के लिए अपने बेटों को भी मरवा दिया था। कश्मीर की इस महारानी का नाम था दिद्दा। ऐतिहासिक दस्तावेजों के मुताबिक कश्मीर पर मुख्यत: तीन राजवंशों ने राज किया था। ये तीन राजवंश थे काकोट, उत्पल और लोहार वंश। इनमें से महारानी दिद्दा का जन्म लोहार वंश से था।

United States Capitol : अमेरिकी संसद भवन, जितनी सुंदर इमारत, उतना ही शानदार इतिहास, देखें Photo


कश्मीर पर शासन करने वाली एकमात्र महारानी

दिद्दा का जन्म 958 ईस्वी में हुआ था। वह लोहार वंश में पैदा हुई थी, लेकिन विवाह उत्पल वंश में हुआ था। राजतरंगिणी के मुताबिक दिद्दा के पिता राजा सिंहराज थे, जिन्होंने अपनी बेटी का विवाह उत्पल वंश के राजकुमार क्षेमेंद्र गुप्त से किया था। क्षेमेंद्र शारीरिक रूप से बेहद कमजोर था, इसलिए 979 ईस्वी में पत्नी दिद्दा ने राजकाज का बागडोर संभाल ली। जिस वक्त दिद्दा कश्मीर की महारानी की उपाधि संभाली, तब उनकी उम्र मात्र 21 साल थी। कवि कल्हण के मुताबिक दिद्दा की मृत्यु 1003 ईस्वी सन् में हुई थी और उसके बाद राज्य की बागडोर दिद्दा के गोद लिए पुत्र संग्राम सिंह ने संभाली थी।

Top Lowest Rating Car of India: भूलकर भी मत खरीदना ये कारें, बाद में होगा पछतावा


साफ-सुथरे शासन के लिए मरवा दिए थे खुद के बेटे

मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कभी होलकर वंश का शासन था। इसी राजवंश में हुई रानी अहिल्याबाई होल्कर के बारे में तो आमतौर पर ये सभी जानते है कि उन्होंने अपने नालायक बेटे को हाथियों के पैरों के नीचे कुचलवा दिया था, लेकिन इस मामले में महारानी दिद्दा भी पीछे नहीं थी। राज्य में सुशासन स्थापित करने के लिए उन्होंने अपने कार्यकाल में सभी प्रयास किए।


फेफड़ों की परेशानी बताता है पीक फ्लो टेस्ट, दमा के रोगी कर सकते हैं इसका इस्तेमाल


जब तक पति क्षेमेंद्र जिंदा रहे, तब तक उनकी सहायिका बनी रही और उनकी मौत के बाद खुद से सिंहासन संभाल लिया। अपने शासनकाल में कई भ्रष्ट मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया। यहां तक की प्रधानमंत्री को भी बर्खास्त कर दिया था। ऐसा भी उल्लेख मिलता है कि महारानी दिद्दा ने सुशासन के लिए अपने पुत्रों को भी मरवा दिया था। अब हाल ही महारानी दिद्दा इसलिए चर्चा में है क्योंकि बॉलिवुड अभिनेत्री कंगना रनौट इस ऐतिहासिक किरदार पर जल्दी ही फिल्म का निर्माण शुरू करने वाली है।